copyright copyright

आज मैं लिये चलता हूं आप सब को प्रकृति की उस छोटी वाटिका में जो मैनहन में स्थित है आज बतायेंगे उसका सुन्दर अतीत और बदहाल वर्तमान जिससे आप अन्दाज़ा लगा सके भारत के गांवों की क्षीण होती जैव-विविधता का।

पहले प्रकृति की उन सुन्दर कृतियों के बारे में जिन्हे मेरे पूरवजों ने देखा है किन्तु आज़ उनमें से तमाम कृतियां विलुप्त हो चुकी है

जिन वृक्षों पर मैने तमाम खेल खेलें है, जिन लतिकाओं का सहारा लेकर मैं वृक्षों पर ऊंचाई तक चढ़ा हूं और किन झाड़ियों के पुष्पों को देखकर मैं पुलकित हुआ और किन-किन वनस्पतियों के औषधीय गुणों ने मेरा उपचार किया उनका सक्षिप्त विवरण है ये, किन्तु मैं अपने एहसासातों को प्रत्येक वनस्पति के साथ अलाहिदा प्रस्तुत करूंगा।

वृक्ष

अंजना———-Alstonia scholaris

आम———Mangifera indica

अम्बारा………..Spondias pinnata

असना——Terminal tomentosa

बकैन———Melia azedarach

बरगद———–Ficus bengalensis

पीपल———Ficus religiosa

बिलसा, भैंसा——–Salix tetrasperma

ढाक, पलास, टेसू——Butea monosperma

अर्रू…………………..Ailanthus excelsa

असिध, धौरी…………Lagerstroemia parviflora

जामुन…………………..Eugenia jambolana

गूलर…………………. Ficus glomerat

इमली………………….. Tamarindus indica

कंजी…………………… Pongamia pinnata

कुम्भी……………….. Careya arborea

कुसुम……………….Schleichera oleosa

महुआ…………………Madhusa indica

नीम……………………Azardirachta indica

सैजंना…………………Moringa oleifera

सेमल………………..Salmalia malabarica

शीशम……………..Delbergia sisso

सिहोरा………………….Streblus asper

तेंदू…………………Diosphyros tomentosa

तुन………………Cedrela toona

उदाला………………….Sterculia villosa

छोटे वृक्ष एंव झाड़ियां

मदार…………………..Calatropis procera

बनबेरा…………………….Ehretia laevis

बनतुलसी……………..Pogostemon plectranthoides

बेर…………………………Zizyphus mauritiana

भांट, भटवास, कटू……………Clerodendron viscosum

चमरौध…………………………Ehretia laevis

झरबेरी………………………..Zizyphus fructicosa

कजरौटा, छोटि करी……Miliusa tomentosa

कसरौट……………………. Moghania species

खजूर…………………..Phoenix acaulis

महोली……………….Bauhinia racemosa

नील…………………Indigofera tinctoria

पनियाला………………..Flacourtia jangomos

रोहनी …………… Mallotus philispensis

रूसा, अरुसा……………….Adhotoda vasica

स्केडेंट झाड़ियां व लतिकायें

आईला………………..Acacia pennata

अलाई……………Caesalpinia sepiaria

बांदा……………….Dendrephthoe falcata

मकोई…………….Zizyphus  oeonoplia

मोलहा बेल…………….Butea parvlfiora

राम दतून………..Smilax zeylanica

मौरैन……….bauhinia vahlii

बिलाइकन्द———Pucraria tuberosa

गिलोइ…………Tinospora cordifolia

घास..

बेव ग्रास……………..Eulaliopsis binata

बांस…………………Dendrocalamus strictus

सींक, खस, पन्नी……Veteveria zizanoides

जराकुस………………Cymbopogon martinii

कांस…………….Saccharum spontaneum

कांटा बांस………….Bambuta arundicaceas

कुश……………Desmostachya bipinnata

मूंज…………..Erianthus munja

पतेर……………Typha elephantina

सिंधुर…………….Bothriochloa intermedia

सरखेरा, उल्लाह……….Thomeda arundinacea

पौरा……..Hateropogon contortus

रेतवा…………….Sclerostachya fusca

उपरोक्त पेड़-पौधे जो स्थानीय व कुछ ब्रिटिश शासन द्वारा रोपे गये थे, इसके अतिरिक्त तमाम प्रजातियों का जिक्र नही हो पाया जिनमें औषधीय वनस्पतिया अभी शेष है जिनका विवरण मै शनै: शनै: लिखत रहूगा अपने लोगो से बात-चीत करने के पश्चात।

हां अब वृक्षॊं की मात्र इतनी प्रजातियां शेष है जिन्हे मैं अपनी उंगलियों पर गिन सकता हूं जैसे आम, बरगद, पीपल, जामुन, बेर, बांस, आदि और यही हाल झाड़ियों का है क्योकि पुरान बागें व जम्गल कृषि भूमि में तब्दील हो गये और दोहरी फ़सले लेने के चक्कर में अब आम की बागों मे झाड़ी व लतिकायें नष्ट हो गयी।

अब आप सोचिये की कितनी तेज़ी से सब कुछ नष्ट हो रहा है ।

कुछ सुन्दर और लुप्त प्राय वनस्पतियों का जिक्र मै करूगा जो अभी बची हुयी है और बचपन से लेकर आज तक मुझे रोमांचित करती आयी है।

कृष्ण कुमार मिश्र

मैनहन-२६२७२७

भारतवर्ष

Advertisements