Akbarअकबर-द साइंटिस्ट

जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर ने ईजाद किया रिफ्रिजरेशन का सिद्धांत …

फ्रिज का प्रवर्तन भारत भूमि से …

मैनहन गाँव के लोगों ने की अविष्कार की पुनरावृत्ति …

रेफ्रीजरेटर का आविष्कार भारत के बादशाह जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर ने सन 1585 से पूर्व में किया जब उनकी राजधानी फतेहपुर सीकरी हुआ करती थी, आइन-ए-अकबरी में अबुल फज़ल ने अकबर के पानी ठंडा करने के तरीके को कई मर्तबा लिखा है अपने दस्तावेज में, सबसे ख़ास बात यह है इस दौर में पूरी दुनिया में अकबर द्वारा ईजाद किया हुआ वैज्ञानिक तरीका कहीं और नहीं मिलता, योरोप और अमरीका में भी लोग बाग़ बर्फ से ही पानी व्  खाद्य पदार्थों को ठंडा व् सुरक्षित रखते थे, अगर मौजूदा विज्ञान की बात करें तो लोगों के घरों में बीसवी सदी के पहले दशक में विकसित रेफ्रीजरेटर पहुंचा, किन्तु इसके आविष्कार के लिए जद्दोजहद सन 1750 के आस पास शुरू हो चुकी थी, कहते है बेंजामिन फ्रैंकलिन ने उस वक्त वाष्पीकरण से तापमान पर पड़ने वाले प्रभाव पर प्रयोग शुरू किए थे, अपने एक रसायन विज्ञानी मित्र जान हैडले के साथ, फ्रैंकलिन के प्रयोगों को आगे बढाया अमेरिका के ही एक वैज्ञानिक ने जिसे ऑलिवर एवैंस के नाम से जानते है, वैसे इन्हें सारी दुनिया में भाप के इंजनों की बेहतरी के लिए जाना जाता है, जैकब पार्किंस को सन 1834 में रेफ्रीजरेटर के एक सफल माडल का पेटेंट मिला, एक ब्रिटिश पत्रकार जेम्स हैरिसन ने सन 1856 में रेफ्रीजरेटर के एक माडल को पेटेंट कराया जिसमें वाष्प-दबाव प्रणाली में ईथर, एल्कोहल और अमोनिया का इस्तेमाल होता था, इसके बाद जो मौजूदा फ्रिज हम देखते है वह सन 1913 में फ्रेड डब्ल्यू वाल्फ़ ने विकसित किया, इसके बाद बहुत से संशोधनों से गुजरा है यह ठंडा करने वाला यंत्र……दुनिया आज इन्ही अमरीकी और ब्रिटिश नागरिकों को जानती है इस मशीन के अविष्कारक के तौर पर….और यह रेफ्रीजरेटर शब्द भी इंग्लिश डिक्शनरी में अठारवीं  सदी में शामिल हुआ…जबकि इस मशीन के आविष्कार के अन्वेषण-कर्ताओं में भारत भूमि की पहल रही, जिसे इतिहास के कुछ पुराने और अप्रसांगिक हो चुके दस्तावेजों में कहा गया है.

कहते है की अकबर सिर्फ एक शासक नहीं थे उन्हें कीमियागिरी से लेकर वास्तुशास्त्र और तंत्र-विद्याओं तक में रूचि थी, और वह हमेशा तकनीकी कार्य करने वाले लोगों के मध्य जाकर स्वयं अपने हाथों से बुनाई कताई से लेकर जंगी साजों सामान के निर्माण में अपनी भागीदारी सुनाश्चित करते थे, अपनी गर्मियों की आराम-गाह जोकि बांस की झोपड़ी होती थी, जिसमे चारोतरफ खुशबूदार खस के परदे बांधे जाते थे और उन पर पानी डाला जाता था ताकि उन खस के पर्दों से गुजरने वाली हवाएं ठंडी हो जाए, इसे तब नैबस्त-गाह कहा जाता था, इस तरह यह शुरुवाती कूलर का माडल हुआ जो हिन्दुस्तान के आम व् ख़ास सभी में खूब प्रचलित रहा….

अकबर द्वारा किए गए इस आविष्कार के सन्दर्भ में अबुल फज़ल ने कहा की दूरदर्शी बुद्धि के उमड़ाव् के चलते जहाँपनाह ने पानी ठंडा करने का साधन उसी शोरे अर्थात बारूद से बनाया जो बहुत हलचल पैदा करने वाला है, और उनके इस आविष्कार से आम व् ख़ास सभी बहुत खुश हुए, यह एक नमकीन लोंदा होता है, उसे छलनी में रखा जाता है और उस पर कुछ पानी छिड़का जाता है, मामूली मिट्टी से अलग कर लिया जाता है, छलनी से जो कुछ छान कर नीचे गिरता है, उसे उबाल लिया जाता है, उसमे मौजूद मिट्टी से अलग कर लिया जाता है और उसके स्फटिक(बरबदंद) बना लिए जाते है, कांसा या चांदी या ऐसी किसी धातु की एक बोतल में एक सेर पानी डाला जाता है और उसका मुहं बंद कर दिया जाता है, एक छलनी में ढाई सेर शोरे में पांच सेर पानी मिलाया जाता है और उस मिश्रण में आधी घड़ी अर्थात १२ मिनट तक उस मुहं बंद बोतल को इधर से उधर घुमाया जाता है, बोतल के अन्दर का पानी बहुत ठंडा हो जाता है, एक शख्स एक रुपये में तीन चौथाई मन से लेकर चार मन तक शोरा खरीद सकता है….

भारत के पारंपरिक ज्ञान और उसकी प्राचीन सभ्यताओं में विज्ञान की समृद्धता को कोइ नकार नहीं सकता, दरअसल अबुल फ़जल ने अकबरनामा के तीसरे हिस्से में जिसे आईने अकबरी कहते है, उसमे भारत के प्राचीन विज्ञान का विवरण है, जाहिर है कि अबुल फ़जल अकबर के नवरत्नों में से एक थे और उन्हें अपने मालिक के लिए यह विशाल दस्तावेज तैयार करना था नतीजतन अकबर के किरदार की मुख्यता और भारतीय ज्ञान को अकबर से जोड़ कर प्रस्तुत करना उनके लिए लाजमी था, इतिहास साक्षी है की राजाओं के दरबारी कवियों ने बहुत ही सुन्दर व् ज्ञान से परिपूर्ण रचनाएं लिखी परन्तु उन रचनाओं में राजा के प्रति उस कवि की कर्तव्य-निष्ठा तो रहती ही थी साथ में चापलूसी और अतिशयोक्तियों से भरे अल्फाजों की दास्ताँनें भी, इसलिए निरपेक्षता की उम्मीद कम ही होती थी, इसलिए इन सम्राटों के दरबारी दस्तावेजों में लिखे हुए किस्सों से इतिहास को भांप तो सकते है परन्तु स्पष्ट कुछ भी देख पाना मुमकिन नहीं होता है इसीलिए इतिहास हमेशा से रिसर्च का विषय रहा है, की उस काल के हालातों का निरपेक्षता से जायजा लेकर उसे दोबारा लिखा जाए ताकि लेखक की भावन जो लालच, और अंध-भक्ति से लिपटी हुई हो तो उसे छान कर उस निर्मल अतीत को देखा और गुना जा सके…….

हम सभी जानते है की रासायनिक अभिक्रियाओं की शुरुवात उष्मा के फैलाव व् उसके जज्ब होने के कारण होती है, वाष्पन से तापमान परिवर्तित होता है, यह तथ्य भले शहंशाह न जानते हो और न ही वे मैनहन गाँव के किसान पर इस रासायनिक अभिक्रिया से पानी को ठंडा कर लेने की जुगत उन्होंने हासिल की…

  बारूद यानि सल्फर, चारकोल और पोटेशियम नाइट्रेट का मिश्रण, इसका आविष्कार नवी सदी में चाइना में माना जाता है,परन्तु वास्तविकता में साल्टपीटर यानि बारूद का आविष्कार भारत में हुआ, जीन बैपटिस्ट टेवर्नियर ने आसाम में इसके ईजाद की बात कही है…  मुख्यता प्राकृतिक तौर पर यह गुफाओं की दीवारों पर चमगादड़ों की ग्वानों (मल -मुख्यता: यूरिक एसिड) के साथ मिला हुआ होता है, जिसे शुद्ध किया जाता है, ताकि इससे शुद्ध पोटेशियम नाइट्रेट निकाला जा सके और उसे गर्म करके क्रिस्टल्स के तौर पर रखा जा सके, पोटेशियम नाइट्रेट, अमोनियम नाइट्रेट, और यूरिया नाइट्रेट ये सभी विस्फोटक पदार्थ है, सभी में नाइट्रोजन तत्व विद्यमान है किसी न किसी रूप में, अमेरिकन सिविल वार के दौरान वहां लोगों ने एक देशी विधि का इस्तेमाल किया जिसे फ्रेंच मेथड भी कहते है, घरों से कुछ दूर  खाद (पांस), भूसा, और मूत्र मिलाकर कई महीनों के लिए छोड़ देते थे, बाद में राख और पानी से उसे छान कर अलग कर लेते थे….कुलमिलाकर यूरिया का किसी न किसी रूप में बारूद बनाने में इस्तेमाल किया जाता रहा, वही यूरिया जो जीवों की उपापचयी क्रियाओं द्वारा किडनी में अपशिष्ट पदार्थ के तौर पर निर्मित होती है साथ ही कुछ अन्य तत्व पोटेशियम, मैग्नीशियम आदि भी उत्सर्जित होते है जीवों के शरीर से, बताते चले की यह यूरिया एक ऐसा कार्बनिक योगिक है जो प्रयोगशाला में पहली बार बनाया गया बावजूद इस मिथक के की कोई भी कार्बनिक योगिक प्रयोगशाला में निर्मित नहीं हो सकता है, और इस यूरिया को बनाने वाले थे एक जर्मन वैज्ञानिक फ्रेडरिक वोह्लर……

दरअसल पोटेशियम नाइट्रेट, या यूरिया नाइट्रेट ये दोनों विस्फोटक गुणों से युक्त है और इन दोनों के देशी निर्माण की विधियों में यूरिया का प्राकृतिक स्रोत यानि मूत्र का इस्तेमाल होता रहा है, अकबर का बारूद (चारकोल, सल्फर और पोटेशियम नाइट्रेट) और हमारे गाँव के लोग जो यूरिया का इस्तेमाल करते है चीजों को ठंडा करने के लिए, दोनों में नाइट्रोजन तत्व व् वाष्पीकरण से तापमान में परिवर्तन की समानता है….पूरी दुनिया में 1585 के पहले कही भी रासायनिक प्रक्रियाओं से पानी को ठंडा कर पाने की कोइ विधि जानकारी में नहीं है, तो यह साबित हो जाता है की अबुल फ़जल के जहाँपना जलाल्लुद्दीन मुहम्मद अकबर ही इस ईजाद की हुई तकनीक के मालिक है. इसका जिक्र अशोक बाजपेई व् इरफ़ान हबीब ने भी अपने शोध में किया है.

तकनीक ने जब अपने पाँव फैलाए तो हासिए के आदमी तक वह पहुँची, उस तकनीक का लाभ भले वह आर्थिक कारणों से न उठा पा रहा हो किन्तु उसके मष्तिष्क में उस तकनीक का जादू जरूर पैबस्त हो गया, नतीजतन उसने अपने देशी तरीके ईजाद किए उस तकनीक की नक़ल में …जरूरत ईजाद कर लेती है वो तरीके जो आसानी से मुहैया हो सके इंसान को …और इसी जरूरत ने हमारे गाँव के लोगों को प्रेरित किया बिना किसी मशीनी रेफ्रीजरेटर के पानी, कोकोकोला और बेवरेज को ठंडा करने की तकनीक को ईजाद करने के लिए, वे अकबर की तरह शोरा यानि गन पाउडर का इस्तेमाल नहीं करते क्योंकि वह सर्व सुलभ नहीं, उन्होंने एक नया तरीका खोजा यूरिया से पानी ठंडा करने का, उन्हें उष्मा गतिकी के नियम भले न पता हो और न पता हो पदार्थों के वाष्पीकरण से तापमान में परिवर्तन की प्रक्रिया किन्तु उन्हें यह मालूम चल गया की यूरिया में पानी मिला देने से उसमे बंद बोतल में कोई भी चीज रख दे तो वह कुछ मिनटों में ही ठंडी हो जाती है बर्फ की तरह …जाहिर है ग्रामीण क्षेत्रों में हर किसान के घर यूरिया मौजूद होती है और गर्मियों में गाँव से दूर खेतों में काम करता आदमी जिसे प्यास में ठन्डे पानी की जरूरत भी और इसी जरूरत ने यह तरीका ईजाद करवा दिया !

अकबर की इस खोज में भले उनके किसी जंगी सिपाही की तकरीब हो यह, पर नाम जहाँपनाह का ही जोड़ा जाएगा उनके नवरत्न अबुल फ़जल द्वारा, या फिर यह ईजाद वाकई में जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर का ही हो, क्योंकि उनकी बौद्धिक अमीरी का जलवा तो हिन्दुस्तान ही नहीं बल्ख बुखारा से लेकर लंदन तक था, और हमारे गाँव मैनहन के लोगों की यह तरकीब जो मैं आप सब को सुना रहा हूँ, हो सकता है कालान्तर में मेरे नाम से ज्यादा जोड़ दी जाए क्योंकि दस्तावेजीकरण करने वाले या करवाने वाला ही प्रमुख होता है, शुक्र है की मुग़ल शासन में अबुल फ़जल जैसे लेखकों ने अकबरनामा जैसा वृहद दस्तावेज तैयार किया और आज हम इस दस्तावेज के दरीचों से कई सदियों पहले की चीजों को देख सकते है.

DSCF3458कृष्ण कुमार मिश्र

संस्थापक संपादक- दुधवा लाइव जर्नल

मैनहन

खीरी

भारत

9451925997

Advertisements
320px-Justicia_adhatoda_1

Image courtesy: ShineB (wikipedia)

अग्नि के आविष्कार ने जब आदिमानव की जीवन शैली को अचानक बदला तो कोई नही जानता था, कि पाशविक जीवन शैली में प्रकृति में संघर्ष करता हुआ यह मानव जल्द ही सभ्यता में प्रवेश करने वाला है, अग्नि में ढाले हुए उसके आदिम हथियार तब्दील होने वाले है खेती के औजारों में, शिकार को भुनने और हिमपात में रक्त जमा देने वाली सर्दी से वचाव का यह चमत्कृत अग्नि अस्त्र अब यज्ञ की वेदियों से लपटें निकालने के काम आने वाला है, जो जीवन के लिए जरूरी था अब वह सिर्फ जरुरत भर रहने वाला नहीं सौंदर्य और आडम्बर में तब्दील होने वाला है, अग्नि की परिक्रमा यानि बोन फायर के चारो तरफ नाचते चिल्लाते और गाते स्त्री पुरुष, कुछ ज्यादा अलाहिदा नही है, उन लाखो वर्ष पहले के मानव से बस तब मीलो फैले घने जंगलो जमी हुई बर्फ के मध्य जीवन को अग्नि से ऊर्जा देता हुआ यह आदिम मानव, और मौजूदा वक्त का आउटिंग एवं पिकनिक मनाता माडर्न मानव !, उस आदि मानव के हाथ में अधभुना या पूरा पका हुआ गोस्त और प्राकृतिक मादक पेय होते थे, बजाए, रेस्त्रां व् घर में बने तमाम तरह के लजीज व्यंजन और ब्रांडेड बीयर या व्हिस्की के, कुलमिलाकर शमां एक सा लगेगा इतिहास के इन दो छोरों को एक साथ देखने पर…..आग को सदियों पुराना आदमी मीलों पैदल चलकर एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाता था, जमीन में गड्ढा खोदकर प्राकृतिक ओवन में आग को सरंक्षित करना सीख गया था आदमी,  और आग की अदला बदली करना भी ! अग्नितोत्सव से होलिकोत्सव और फिर रंगों का त्यौहार कैसे बना यह पर्व यह एक लम्बी कहानी है….

आदमी ने ये भी नहीं सोचा होगा की उसके अप्रितम आविष्कार अग्नि में जो वह मांस भूनता है, उसी अग्नि में उसकी सन्ततिया अन्न भूनेगी, और सती के नाम पर विधवाओं को भी, मनुष्य मन की ईर्ष्या रुपी अग्नि इतनी वीभत्स हो जाएगी की वह अपने प्रतिद्वंदियों को भी इसी अग्नि में जलाएगा, यही बानगी है इतिहास की, कि वक्त के साथ साथ इसकी नियति भी उलटती है, खंड खंड सा जुदा जुदा सा दिखने वाला अतीत, कही न कही पतले तंतुओं से जुड़ा होता है, इतिहास की यही खासयित सभ्यताओं को आपस में जोड़ती है, और आदमी को आदमी से, इसी एक इतिहास खंड में हिरण्यकश्यप नाम का एक पात्र है, जिसकी राजधानी उत्तर भारत के खीरी-हरदोई जनपद में बताई जाती है, वैष्णवों का घोर विरोधी यह पात्र जो विष्णु की सत्ता का प्रतिकार करता है, और स्वयं को भगवान की पदवी पर आरूढ़ कर लेता है, इसकी एक बहन जिसके पास फायर प्रूफ शाल या चुनरी होने की बात कही गयी है, (शायद कुछ लोग भारतीय विमानन शास्त्र की तरह फायर प्रूफ कपड़ों के अविष्कारक अपने पूर्व कथित भारतीय पूर्वजों को साबित करने में लग जाए! बिना इस बोध के की क्या वो उनके पूर्वज ही थी शैव वैष्णव, आर्य अनार्य आदि का भेद भूलकर, चलिए इन कथित अविष्कारों पर हमारे लोग कम से कम जाति वर्ग और धर्म के भेद भूल जायेगे यही क्या कम है, अनेकता में एकता के लिए), खैर बात हिरण्य कश्यप की हो रही थी, इन महाशय के एक पुत्र भी था प्रह्लाद जिस पर वैष्णवों का पूरा प्रभाव पड़ चुका था, या प्रभाव डाल दिया गया था, वैष्णव मत से वैमनस्य के चलते राजा हिरण्य कश्यप ने अपने पुत्र को अपनी फायर प्रूफ चुनरी वाली बहन के साथ अग्नि में स्थापित करने को कहा, कहते है अग्नि की लपटों ने हिरण्यकश्यप की बहन की चुनरी उड़ गयी, और वह अग्नि में जल गयी तथा  प्रह्लाद को विष्णु ने बचा लिया, आज भी जो लकड़ियों और गाय के गोबर के उपलों के मध्य एक अरण्ड का वृक्ष? गाड़ा जाता है वह प्रह्लाद के चिन्ह के रूप में है, और अग्नि प्रज्वलित करने के बाद लपटों में घिरे उस वृक्ष को सुधीजन बाहर निकाल लेते है और फिर नाचते गाते है, इतिहास के कौन से बारीक तंतु उन काल खण्डों को आपस में जोड़ते है, जब पशुपति नाथ को मानने वाले शैव आहिस्ता आहिस्ता वैष्णव परम्परा में पैबस्त हो गए, और विष्णु का गुणगान करते हुए होलिकोत्सव मनाने लगे उल्ल्हास और श्रद्धा से, यकीनन राजा को देवता बना देने वाली पुरोहितों द्वारा रचाई गयी इस प्रणाली की ही यह देन हो,

सभ्यताओं के मिश्रण ने रीति-रिवाजों में बड़े बदलाव किए कुछ खूबसूरत तो कुछ खराब, इस तरह पता नहीं कब  यह त्यौहार भी आर्य अनार्य, शक हूड कुषाण, मुग़ल और मौजूदा भारतीय समाज में संक्रमित होते हुए काल के इस छोर पर रंगों की होली में तब्दील हुआ हो, ब्रज ने रंग दिए इस होली के पर्व को तो अवध ने संजीदगी, अल्ल्हड़पन भी समावेशित हो गया न जाने कब इस त्यौहार में, एक स्त्री के जलाने की यह प्रक्रिया में कब विष्णु अवतरित हुए और कब प्रह्लाद को जीवन दान देकर वैष्णवों की शक्ति का गुणगान हुआ, यह तो दरबारी पुरोहित और कवि जाने किन्तु मौजूदा समाज ने इसमें जो रंग भरे वो अवश्य अतुलनीय है, स्नेहिल और भाई चारे से युक्त.

एक बात दिमाग में कौंधती है उसका जिक्र किए बगैर इस बोझिल ऐतिहासिक लेख को समाप्त नहीं करूंगा वह बात है “होली के फूल” की, आम की पुरानी बागों में तमाम तरह की झाड़ियां उगती है, जिनमे एक झाडी में सर्प के मुख की भाँति आकृति लिए हुए एक पुष्प खिलता है, इसी होली के त्यौहार के आस पास, जिसके मीठे पराग रस को चूसने न जाने कितने कीट पतंगे इकठ्ठा होते है उन झाड़ियों पर, होली के गाड़ने के बाद से लोग खासतौर से लडकियां इन सफ़ेद पुष्पों को चुन चुन कर सींक में पुहती है और फिर गोबर की छेददार उपलों की माला के साथ इन पुष्पों को भी होली स्थल पर चढ़ा आती है, दरअसल यह सफ़ेद पुष्प वाले पौधे का नाम मालाबार नट है, इसे हिंदी में अडूसा, रूसा या रुसाहा भी कहते है, वैज्ञानिकों ने इसे जस्टिसिया अधाटोडा नाम दिया, भारतीय धरती की यह वनस्पति कई औषधीय गुणों से लबरेज है, मलेरिया, ज्वर, क्षयरोग, मूत्र रोग व् कफ की बीमारियों में इसकी जड़ पत्ते और पुष्पों का इस्तेमाल होता है….इस आदि वनस्पति का मौजूदा मनुष्य से कितनी सदियों या फिर पीढ़ियों का नाता है यह अध्ययन का विषय है, इस पुष्प की और होलिकोत्सव मनाने वाली नस्लों के मध्य का नाता!

मानव का प्रकृति से जो रिस्ता है वह रिवाजों में दिखाई देता है, तो हो सकता है कि उत्तर भारत में उस अग्नि में तिरोहित कर दी जाने वाली होलिका के लिए ये श्रद्धा सुमन है या फिर बसंत के आगमन में रची बसी प्रकृति लहलहाती गेहूं की फसलें, खिले हुए आम के बौर और पलाश के फूलों के मध्य यह फाल्गुन का एक पर्व मात्र है, शीत के जाने और उष्ण के आगमन का स्वागत ? या फिर सामूहिक अग्नि की पूजा, या फिर उस प्राचीन व्यवस्था का अंग जब दियासलाई का आविष्कार नहीं हुआ था तब इसी तरह सभी स्त्री पुरुष इसी तरह की अग्नि प्रज्वलित कर अपने अपने घरों में अग्नि को ले जाते थे, और उसे पूरे वर्ष सरंक्षित रखते थे, आज भी यह परम्परा है, लोग होलिका दाह के पश्चात यहां से आग अपने घरों में ले जाते है,… संभव हो की यह कृषि का त्यौहार हो, मानव सभ्यता में कृषि के आविष्कार के बाद जंगली गेहूं से जब उसे मानव द्वारा खेतो में रोपित किया गया तो वह सभ्यता का प्रतीक बना और भरण पोषण का सबसे उम्दा अन्न भी, गेहूं की पकी हुई स्वर्णिम बालियां हमेशा से ऊंचाई से मैदानी क्षेत्रों में आने वाली नस्लों को आकर्षित करती रही है, सभ्यता का यह स्वर्णिम अन्न, इसे भी कथित होलिका दाह की अग्नि में पकाया जाता है और इन बालियों के भुने हुए दानों को घरों में पकाये जाने वाले अन्न में मिलाकर खाया जाता है, यह एक तरह से नव-अन्न के उत्सव का भी दिन है,……रंगों के त्यौहार के यह विविध रंग आदम सभ्यता के कई कालखंडों का ब्यौरा समेटे हुए है उम्मीद है की क्रूरता की कहानी से चलकर रंगो तक के इस सफर में होली अब सिर्फ अपने रंग में रंग गयी है -एकता का रंग !

कृष्ण कुमार मिश्र
मैनहन

खीरी
भारत

krishna.manhan@gmail.com

एक तिनका 

अयोध्या  सिंह  उपाध्याय  “हरिऔध”

उपाध्याय जी इस रचना से मैं परिचित हुआ जब मैं बहुत कम उम्र का था शायद पाठशाला जाने की शुरूवात भी नहीं हुई थी , किन्तु अपने पिता जी के मुख से ये गीत कई बार सुना था मायने पता नहीं थे पर बालक मन को इस कविता के अनजाने भावों ? ने प्रभावित जरूर किया था , प्रयोगवादी स्वभाव मुझमे  हमेशा से रहा  जो शायद मुझे विरासत में मिला है ,  यही वजह थी की इस कविता की पंक्तियाँ  जो मुझे याद हो गयी थी  उनका प्रयोग भी मैंने किया था , आप सभी हंस  लोगें  पर मैं बताऊंगा जरूर ….जो  पंक्तिया रटी  थी हमने  …..

मैं घमंडों में भरा ऐंठा हुआ।
एक दिन जब था मुँडेरे पर खड़ा।
आ अचानक दूर से उड़ता हुआ।
एक तिनका आँख में मेरी पड़ा।

 

और मैंने निश्चय किया की इस बार जब आंधी आयेगी तो मैं अपने घर की मुड़ेर पर तन कर जरूर खडा होउंगा  रोआब  से! ऐसा हुआ भी की मैं इस कविता को गाते हुए उस  धुल भरी आंधी में  जीने  की सीढिया  लांघता हुआ दरवाजे के ऊपर अपनी छत पर खडा हुआ “मुझे वही मेरी मुड़ेर  लगी थी ” और आँखों को पूरा खोलकर उस आंधी  की दिशा  की तरफ खडा हुआ  की आखिर कभी न कभी तो कोइ तिनका आँख में गिरेगा …ऐसा हुआ भी आँख दर्द के मारे गुस्से!! में लाल हो गयी मेरी….पर मुझे कोइ तकलीफ नहीं हुई क्योंकि मैं ऐसा चाहता था

 

….आज सोचता  हूँ काश  पिता  जी के मुख से निकली उस कविता को पूरा  कंठस्थ किया होता अर्थ के साथ  तो ऐसा बिलकुल नहीं करता और जिन्दगी का जो बेहतरीन अर्थ उस कविता में है उसे तब ही समझ गया होता  बजाए एक उम्र गुजरने के बाद ! …अधूरे शब्दों  की सार्थकता  और उसका प्रयोग तो हासिल कर लिया था तब मैंने  पर उसके भावों से अपरचित  था ….आज  लगा  की  ये कविता किसी के भी जीवन को सार्थकता  दे सकती है .

 

…अयोध्या सिंह  उपाध्याय  का जिक्र करना भी जरूरी समझता हूँ ..गाजीपुर  की  जमीन  की पैदाइश एक सनाढ्य  ब्राह्मण कुल में , पिता ने पूर्व में ही सिख धर्म को अपनाया था सो  अयोध्या उपाध्याय  के मध्य सिंह  शब्द ने अपनी जगह बना ली …आजादी के पांच महीने पूर्व ही इनका देहावसान हो गया …….

 

इस कविता  ने जीवन के मूल्यों  को जिस  संजीदगी से परिभाषित किया है , उसे समझ लेना और आत्मसात कर लेना ही एक साधारण व्यक्ति को निर्वाण दे सकने में सक्षम है …..

 

इस कविता को मैनहन  के इस  पन्ने  में अंकित कर रहा हूँ , अपने पिता  की स्मृति में ..की जीवन के उस मूल्य को उन्होंने मुझे  मेरे बचपन में ही बता देने की कोशिश  की  थी ..जिसे मैं बहुत  बाद में  शायद समझ  पाया !..कृष्ण

 

चूंकि  ये  दो  पंक्तियाँ  बमुश्किल  मेरी स्मृति में थी मैं पूंछता भी था कभी  कभी अपने मित्रों से पर जवाब नहीं मिलते थे ..कभी बहुत कोशिश भी नहीं की ..अचानक  एक दिन कई बार कुछ शब्दों  के हेर फेर  के साथ  खोजने पर गूगल ने “एक तिनका” मुझे लौटा दिया जो बचपन में कही खो गया था …जी हाँ अयोध्या  सिंह  उपाध्याय  “हरिऔध” का वह एक तिनका …जाहिर हैं खुशी तो होगी और बहुत हुई …आप सभी से भी ये एक तिनका साझा कर रहा  हूँ  इस उम्मीद के साथ की इस तिनके की ताकत कभी न भूलिएगा …..

 

Image

मैं घमंडों में भरा ऐंठा हुआ।
एक दिन जब था मुँडेरे पर खड़ा।
आ अचानक दूर से उड़ता हुआ।
एक तिनका आँख में मेरी पड़ा।

मैं झिझक उठा, हुआ बेचैन सा।
लाल होकर आँख भी दुखने लगी।
मूँठ देने लोग कपड़े की लगे।
ऐंठ बेचारी दबे पाँवों भगी।

जब किसी ढब से निकल तिनका गया।
तब ‘समझ’ ने यों मुझे ताने दिये।
ऐंठता तू किसलिए इतना रहा।
एक तिनका है बहुत तेरे लिए।

 

 

कृष्ण कुमार मिश्र  ऑफ़ मैनहन (एक तिनका जो अभी भी है मेरी आँख में ! मैं चाहता भी नहीं की ये निकले, ताकि स्वयं का भान रहे सदैव  ..भूलूं नहीं … )

मैनहन

उत्तर भारत के एक गाँव की कहानी जो मैनहन विलेज ब्लाग के माध्यम से आप सभी के समक्ष रखने की कोशिश…परंपरा, इतिहास, धर्म, किबदन्तियां, ग्रामीण कहावते, कृषि, पारंपरिक ज्ञान, वनस्पतियां और जीव-जन्तु सभी का सिज़रा पेश करता है- मैनहन विलेज, जिसके बारे में हिन्दुस्तान दैनिक ने कुछ यूँ लिखा है ! 

कृष्ण कुमार मिश्र

© Krishna Kumar Mishraएक हमारे इलाके की बात याद आ गयी

जब बात चली एक हमारे नजदीकी शख्शियत की जिनका अचानक देहावसान हो गया है, और उनके खानदान के चील-बिल्लौआ टाइप के लोग उनकी अकूत संपत्ति का कैसे उपभोग करेंगे…इस सवाल ने मेरे शातिर दिमाग में एक किस्सा घुमड़ गया…आप सभी सुने…वैसे तो ये किस्सा मैने अपने अनुज समान मित्र को सुनाया था पर जरूरी समझा की आप से भी साझा करू !

सुने….

ध्यान से

कि एक बार मितौली के समीप एक गांव में ठाकुर साहब रहते थे

उनका बकरा कोई उठा ले गया…

ठाकुर साहब का दबदबा था सो

जल्द ही उन्हे पता चल गया

कि बुधुवा पासी ले गया है…..

साला बड़ा खुरापाती था

सामने तो ठाकुर साहब की जी हजूरी करता था

पर मौका लगते हाथ साफ़ कर गया

ठाकुर साहब ने बहुत खोजा न तो साला बुधुवा मिला और

न ही बकरा

अब ठाकुर साहब बहुत परेशान

शाम को खाना न खाये

ठकुराइन थाली लिए- लिए घूमे

जिसमें गोस्त इत्यादि सब था

पर ठाकुर को एक ही बात खाये जा रही थी

जो उन्हे खाने नही दे रही थी

पूछो कौन सी बात ?

वो बोले ठकुराईन

मुझे इस बात का दुख नही कि साला बुधुवा खसी बकरा  चुरा ले गया है…..

मलाल इस बात का है..कि वहु सार बेझरी (चने, बाजरा, मक्का इत्यादि  का आटा)  की रोटी कि साथ मस्त बकरे का गोस्त खाई……

!!!!!!!!!!!!!!!

इति

आप को पता होगा उस दौर में सम्पन्न लोग ही गेहूं की रोटिया खाते थे..गरीबो को बाजरा, जौ, मक्का और चना नसीब होता था

……

कृष्ण कुमार मिश्र

्मैनहन का जंगली पुष्प जो एक देश का राष्ट्रीय पुष्प भी है

सन १९८२ के आस पास का मसला है, मैं अक्सर मैनहन के दक्खिन बहती नहर में नहाने जाता था, एक दिन एक अदभुत व्यक्तित्व वाला मनुष्य जिसने शरीर को केसरिया रंग के कपड़ों से ढ़्क रखा था, चला आ रहा था मेरी ओर, चूकि बचपन से अभिवादन करने का संस्कार मेरे भीतर पैबस्त किया गया था सो मैं दौड़ा और उस महात्मा के चरण छुए उन्होनें कुछ आशीर्वचन कहे जो मुझे याद नही है अब। लेकिन उनके हाथ में पत्तो से बना हुआ पात्र था और उसमें कुछ पुष्प, रंग-बिरंगे खालिस देशी, भारतीय पुष्प जो गांवों के झुरुमुट में हुआ करते थे। उन्होनें मुझे और मेरे साथियों को पुष्प दिए और चले गये।

चेहरे पर गज़ब का नूर, आकर्षक शख्सियत, और भाषा में गम्भीरता यानी ये सब चीजों से, मैं एक बार फ़िर रूबरू हुआ एक नहर पर जो मेरे ननिहाल की तरफ़ बह रही थी, इसे इत्तफ़ाक कहे या कुछ और, बहती जलधारा के निकट उस सन्त से मेरा दोबारा मिलना, इन कड़ियों को आज़ मैं जोड़ने की कोशिश कर रहा हूं। मेरी इस मुलाकात में मेरे पिता जी और मैं दोनो एक साथ थे। नहर के दोनों तरफ़ सैकड़ों  वनस्पतियां पुष्पित और पल्लवित हो रही थी हरियाली अपने चरम पर थी और मानों वह  झुरूमुट दैवीय आभा से दैदीप्तिमान हो रहा था ।

हमें उस सन्त ने आशीर्वाद दिया और पुष्प भी। तब पिता जी ने बताया कि ये फ़ूल बाबा है और इनके दोनें(पत्तियों का बर्तन) में कभी पुष्प समाप्त नही होते। यह आस्था का विषय था।

मैं दुनियां में ज्यों ज्यों वक्त गु्जारने लगा दुनियादारी की समझ भी बढ़ती गयी, और उत्सुकता भी ! और वह फ़ूल वाला साधू भी मुझे याद रहा, इसी कारण जब मैने लोगो से पूछ ताछ की तो उस कड़ी में मेरी मां ने बताया कि एक बार उनके पिता जी यानी मेरे नाना ने फ़ूल बाबा के पुष्प न खत्म होने वाले राज़ को जानने की कोशिश की किन्तु पुष्प समाप्त होने से पहले फ़िर से उस पात्र में भर गये कैसे ? ये किसी को नही पता ।

खैर मुझे इस रहस्य में इतनी दिलचस्पी नही है जितनी उस व्यक्तित्व और उस परंपरा से है, फ़ूल बांटने वाली परंपरा।

पुष्प जो जीवन के उदभव की एक खूबसूरत परिस्थिति है पुष्प जो जीव को रूमानी एहसास कराती है, पुष्प जो प्रत्येक शुभ-अशुभ अवसर का साक्षी बनता है क्योकि यह जीवन को परिभाषित करता है ……….।

मुझे यह भी नही मालूम की उत्तर भारत के इस इलाके के फ़ूल बाबा के अतरिक्त कोई व्यक्ति इस परंपरा का पोषक है या था!

पुष्प जो कहानी बताते है जीवन की, बीज़ से अंकुर, अंकुर से पौधा, और पौधें से विशाल वृक्ष, फ़िर पुष्प की अवस्था जैसे प्रकृति ने देवत्व को प्राप्त कर लिया हो, ऐसी ही परिस्थिति है वनस्पति में पुष्प की, तदपश्चात पुष्प से फ़ल और फ़ल से फ़िर जीवन का बीज़…………………।

मैं अतीत के उन क्षणों को याद करता हूं और सोचता हूं कि फ़िर कोई व्यक्ति फ़ूलों के माध्यम से जीवन की कहानी बताता हुआ किसी मोड़ पर मिल जाए और मैं नतमस्तक हो जाऊ, अपने बचपन के उस वाकए की तरह।

कृष्ण कुमार मिश्र

मैनहन-२६२७२७

भारतवर्ष

सेलुलर-9451925997

45207_brit_cannon_lg

एक जीवित तोप की कहानी

किस्सा १८५७ के गदर का है जब ईस्ट इंडिया कम्पनी ने अवध के एनेक्शेसन का फ़रमान जारी किया और राज महाराजाओं की जमीन जायजाद और असलहों आदि का ब्योरा मांगा, राजाओं को जैसे सांप सूघ गया उन्हे उनके अधिकार छिनते नज़र आये, नवाबी राज में जुगाड़ से अपनी आन-बान बचाये और जनता की मेहनत पर सुख भोग रहे ये रजवाड़े अब उदिग्न और दुखी थे तभी उधर सैनिक विद्रोह से मुल्क में एक हलचल सी मच गयी, सब अपने फ़ायदे-नुकसान की जांच-पड़ताल कर इधर-उधर भागने लगे, और जनता किंकर्तव्यविमूढ़ होकर ये नज़ारा देख रही थी, ज्यादातर रजवाड़ॊ और तालुकेदारों का तो यह हाल था कि जब वह भारी लगते तो क्रान्ति करने लगते और जब अंग्रेज भारी पड़ते तो वह अंग्रेजों की तरफ़दारी में जुट जाते!

अवध में भी कुछ ऐसे हालात थे अहमदुल्ला शाह, बेगमहज़रत महल और कुछ अन्य अति-महात्वाकाक्षी व्यक्ति जिनमे गज़ब की नेतृत्व क्षमता थी इस लड़ाई को आगे ले जा रहे थे, किन्तु हर जनपद में कम्पनी व नवाबी हुकूमत के लोग, अफ़सर व चाटुकार मौजूद थे और गदर की हलचल पर सब नज़र रखे हुए थे, दूर-दराज़ में छोटे राजा और तालुकेदार हरकहरों द्वारा लाई सूचना पर निर्भर थे कोई कहता फ़िरंगी भाग रहे है तो कोई कहता लखनऊ में फ़िर से फ़िरंगी राज कायम हो गया है। और इसी सूचना के आधार पर ये राजा अपना रंग रह –रह कर बदल रहे थे कभी अपने अंग्रेज आकाओं की जीहुजूरी तो कभी नवाबी शासन की तरफ़दारी! जैसे हालात वैसा भेष!

राजा लोने सिंह आफ़ मितौली जो इस इलाके में बहुत प्रसिद्ध और विशाल भौगोलिक क्षेत्र पर काबिज़ थे

मोहम्मदी, और शाहजहांपुर से चले अंग्रेज अफ़सर व उनके परिवार जिनका रास्ते में उन्ही के सैनिकों द्वारा कत्ल किया गया जो भाग कर बच निकले उन्हे मितौली के राजा लोने सिंह से शरण मांगी राजा ने उन्हे शरण तो दी किन्तु विद्रोहियों का भी उन्हे डर था, कम्पनी सरकार के खिलाफ़ लोने सिंह ने अवध के सिंहासन पर वाजिद अली शाह के बेटे बिरजिस कद्र की ताज़पोशी के दौरान पांच तोपो की सलामी अपने मितौली किले से दी थी, और विद्रोहीयों को मदद भी।

बाद में जब राजा को कुछ लोगों से सूचना प्राप्त हुई की लखनऊ पर बेगम हज़रत महल का शासन कायम हो गया तो उन्होने इन अग्रेजों को विद्रोहियों के हवाले कर दिया।

अग्रेंज जब दोबारा अवध पर काबिज होने लगे तब अक्टूबर १८५८ में मेजर टाम्ब्स के घुड़सवार व पैदल सैनिकों ने शाहजहांपुर में कम्पनी सरकार के विद्रोहियों का सफ़ाया करते हुए मोहम्मदी, पुवांया, औरगांबाद होते होते हुए ८ नवम्बर १८५८ को मितौली पहुंचे और कहते उन्हे बिना किसी प्रयास के मितौली किले पर फ़तह हासिल हुई, और राजा मितौली फ़रार हो गये।

इस किस्से को कुछ स्थानीय तरीके से पेश किया गया अपने राजा की शान में जो मैनहन में भी प्रचलित है वह १८५७ की क्रान्ति की लड़ाई और उसके शूरवीर।

मेरी दादी बताती है कि जब अंग्रेजों ने मितौली के किले को घेर लिया तो राजा लोने सिंह ने खूब लड़ाई लड़ी, किला चारो तरफ़ से गहरी खाई व बांस क झाड़ियों से सुरक्षित था, अंग्रेजों ने किले का फ़ाटक तोड़ने की कोशिश शुरू की, राजा ने अपनी तोप का खयाल किया, राजा की विशाल तोप जिसका नाम लछमनियां था कुऎं से बाहर आई लेकिन उसने राजा का साथ देने से इनकार कर दिया और चल पड़ी किले के उत्तर में स्थित कठना नदी की तरफ़ राजा निरूपाय देखते रहे, एक झड़ाम की अवाज़ के साथ तोप ने नदी के जल में समाधि ले ली, कहते है यदि तोप ने राजा का साथ दे दिया होता तो अग्रेजों की क्या मज़ाल थी जो किले की तरफ़ आख उठा कर देखते, और राजा विजई होते ! किन्तु उस जियधारी तोप ने लोने सिम्ह का साथ छोड़ दिया, यही नियति को मन्जूर था। फ़िर राजा हताश हो गये और अपने किले से सुरंग द्वारा भाग निकले, जो एक मील की दूरी पर कचियानी गांव में निकलती थी जहां राजा के भाई रहते थे। इस तरह अंग्रेज लाख कोशिश के बावजूद राजा लोने सिंह को नही पकड़ सके।

ये बात प्रचलन में है कि आज भी राजा की वह तोप रोज़ आधी रात में किले तक आती है और वापस कठना नदी में जाकर गिरती है जिसकी झड़ाम की आवाज़ सुनाई देती है

यह किस्सा उस प्रजा का अपने राजा के लिए जो उस राजा को कभी हारते हुए नही देखना चाहती। भले उसने हमेशा अपने को जनता के खून-पसीने से सिंचित कर संमृद्धता, एशो-आराम के सारे सामान जुटाए हो।

मेरे ये पूचने पर की आखिर लछमनिया तोप ने राजा का साथ क्यों नही दिया तो इसका कोई ठीक-ठीक जवाब मेरी दादी के पास नही था सिवाय इसके की नियति नही चाहती थी!

“भारत में यदि जनता ने क्रान्ति में कभी हिस्सा लिया तो वह थी अगस्त क्रान्ति यानी बापू के नेतृत्व में, यह मेरा अपना आंकलन है!”

अगली पोस्ट में मैं आप को ले चलूंगा मैनहन के उस जंगल में जहां १८५७ को अग्रेजं अफ़सर, महिलायें व बच्चे रखे गये थे भयानक जंगली महौल में और उनकी खानाबदोशी का हाल, फ़िर कैसे बैलगाड़ियों से और बेड़िया डालकर उन्हे लखनऊ रवाना किया गया…………………..

कृष्ण कुमार मिश्र

मैनहन-२६२७२७

भारतवर्ष

सेलुलर-९४५१९२५९९७