Akbarअकबर-द साइंटिस्ट

जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर ने ईजाद किया रिफ्रिजरेशन का सिद्धांत …

फ्रिज का प्रवर्तन भारत भूमि से …

मैनहन गाँव के लोगों ने की अविष्कार की पुनरावृत्ति …

रेफ्रीजरेटर का आविष्कार भारत के बादशाह जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर ने सन 1585 से पूर्व में किया जब उनकी राजधानी फतेहपुर सीकरी हुआ करती थी, आइन-ए-अकबरी में अबुल फज़ल ने अकबर के पानी ठंडा करने के तरीके को कई मर्तबा लिखा है अपने दस्तावेज में, सबसे ख़ास बात यह है इस दौर में पूरी दुनिया में अकबर द्वारा ईजाद किया हुआ वैज्ञानिक तरीका कहीं और नहीं मिलता, योरोप और अमरीका में भी लोग बाग़ बर्फ से ही पानी व्  खाद्य पदार्थों को ठंडा व् सुरक्षित रखते थे, अगर मौजूदा विज्ञान की बात करें तो लोगों के घरों में बीसवी सदी के पहले दशक में विकसित रेफ्रीजरेटर पहुंचा, किन्तु इसके आविष्कार के लिए जद्दोजहद सन 1750 के आस पास शुरू हो चुकी थी, कहते है बेंजामिन फ्रैंकलिन ने उस वक्त वाष्पीकरण से तापमान पर पड़ने वाले प्रभाव पर प्रयोग शुरू किए थे, अपने एक रसायन विज्ञानी मित्र जान हैडले के साथ, फ्रैंकलिन के प्रयोगों को आगे बढाया अमेरिका के ही एक वैज्ञानिक ने जिसे ऑलिवर एवैंस के नाम से जानते है, वैसे इन्हें सारी दुनिया में भाप के इंजनों की बेहतरी के लिए जाना जाता है, जैकब पार्किंस को सन 1834 में रेफ्रीजरेटर के एक सफल माडल का पेटेंट मिला, एक ब्रिटिश पत्रकार जेम्स हैरिसन ने सन 1856 में रेफ्रीजरेटर के एक माडल को पेटेंट कराया जिसमें वाष्प-दबाव प्रणाली में ईथर, एल्कोहल और अमोनिया का इस्तेमाल होता था, इसके बाद जो मौजूदा फ्रिज हम देखते है वह सन 1913 में फ्रेड डब्ल्यू वाल्फ़ ने विकसित किया, इसके बाद बहुत से संशोधनों से गुजरा है यह ठंडा करने वाला यंत्र……दुनिया आज इन्ही अमरीकी और ब्रिटिश नागरिकों को जानती है इस मशीन के अविष्कारक के तौर पर….और यह रेफ्रीजरेटर शब्द भी इंग्लिश डिक्शनरी में अठारवीं  सदी में शामिल हुआ…जबकि इस मशीन के आविष्कार के अन्वेषण-कर्ताओं में भारत भूमि की पहल रही, जिसे इतिहास के कुछ पुराने और अप्रसांगिक हो चुके दस्तावेजों में कहा गया है.

कहते है की अकबर सिर्फ एक शासक नहीं थे उन्हें कीमियागिरी से लेकर वास्तुशास्त्र और तंत्र-विद्याओं तक में रूचि थी, और वह हमेशा तकनीकी कार्य करने वाले लोगों के मध्य जाकर स्वयं अपने हाथों से बुनाई कताई से लेकर जंगी साजों सामान के निर्माण में अपनी भागीदारी सुनाश्चित करते थे, अपनी गर्मियों की आराम-गाह जोकि बांस की झोपड़ी होती थी, जिसमे चारोतरफ खुशबूदार खस के परदे बांधे जाते थे और उन पर पानी डाला जाता था ताकि उन खस के पर्दों से गुजरने वाली हवाएं ठंडी हो जाए, इसे तब नैबस्त-गाह कहा जाता था, इस तरह यह शुरुवाती कूलर का माडल हुआ जो हिन्दुस्तान के आम व् ख़ास सभी में खूब प्रचलित रहा….

अकबर द्वारा किए गए इस आविष्कार के सन्दर्भ में अबुल फज़ल ने कहा की दूरदर्शी बुद्धि के उमड़ाव् के चलते जहाँपनाह ने पानी ठंडा करने का साधन उसी शोरे अर्थात बारूद से बनाया जो बहुत हलचल पैदा करने वाला है, और उनके इस आविष्कार से आम व् ख़ास सभी बहुत खुश हुए, यह एक नमकीन लोंदा होता है, उसे छलनी में रखा जाता है और उस पर कुछ पानी छिड़का जाता है, मामूली मिट्टी से अलग कर लिया जाता है, छलनी से जो कुछ छान कर नीचे गिरता है, उसे उबाल लिया जाता है, उसमे मौजूद मिट्टी से अलग कर लिया जाता है और उसके स्फटिक(बरबदंद) बना लिए जाते है, कांसा या चांदी या ऐसी किसी धातु की एक बोतल में एक सेर पानी डाला जाता है और उसका मुहं बंद कर दिया जाता है, एक छलनी में ढाई सेर शोरे में पांच सेर पानी मिलाया जाता है और उस मिश्रण में आधी घड़ी अर्थात १२ मिनट तक उस मुहं बंद बोतल को इधर से उधर घुमाया जाता है, बोतल के अन्दर का पानी बहुत ठंडा हो जाता है, एक शख्स एक रुपये में तीन चौथाई मन से लेकर चार मन तक शोरा खरीद सकता है….

भारत के पारंपरिक ज्ञान और उसकी प्राचीन सभ्यताओं में विज्ञान की समृद्धता को कोइ नकार नहीं सकता, दरअसल अबुल फ़जल ने अकबरनामा के तीसरे हिस्से में जिसे आईने अकबरी कहते है, उसमे भारत के प्राचीन विज्ञान का विवरण है, जाहिर है कि अबुल फ़जल अकबर के नवरत्नों में से एक थे और उन्हें अपने मालिक के लिए यह विशाल दस्तावेज तैयार करना था नतीजतन अकबर के किरदार की मुख्यता और भारतीय ज्ञान को अकबर से जोड़ कर प्रस्तुत करना उनके लिए लाजमी था, इतिहास साक्षी है की राजाओं के दरबारी कवियों ने बहुत ही सुन्दर व् ज्ञान से परिपूर्ण रचनाएं लिखी परन्तु उन रचनाओं में राजा के प्रति उस कवि की कर्तव्य-निष्ठा तो रहती ही थी साथ में चापलूसी और अतिशयोक्तियों से भरे अल्फाजों की दास्ताँनें भी, इसलिए निरपेक्षता की उम्मीद कम ही होती थी, इसलिए इन सम्राटों के दरबारी दस्तावेजों में लिखे हुए किस्सों से इतिहास को भांप तो सकते है परन्तु स्पष्ट कुछ भी देख पाना मुमकिन नहीं होता है इसीलिए इतिहास हमेशा से रिसर्च का विषय रहा है, की उस काल के हालातों का निरपेक्षता से जायजा लेकर उसे दोबारा लिखा जाए ताकि लेखक की भावन जो लालच, और अंध-भक्ति से लिपटी हुई हो तो उसे छान कर उस निर्मल अतीत को देखा और गुना जा सके…….

हम सभी जानते है की रासायनिक अभिक्रियाओं की शुरुवात उष्मा के फैलाव व् उसके जज्ब होने के कारण होती है, वाष्पन से तापमान परिवर्तित होता है, यह तथ्य भले शहंशाह न जानते हो और न ही वे मैनहन गाँव के किसान पर इस रासायनिक अभिक्रिया से पानी को ठंडा कर लेने की जुगत उन्होंने हासिल की…

  बारूद यानि सल्फर, चारकोल और पोटेशियम नाइट्रेट का मिश्रण, इसका आविष्कार नवी सदी में चाइना में माना जाता है,परन्तु वास्तविकता में साल्टपीटर यानि बारूद का आविष्कार भारत में हुआ, जीन बैपटिस्ट टेवर्नियर ने आसाम में इसके ईजाद की बात कही है…  मुख्यता प्राकृतिक तौर पर यह गुफाओं की दीवारों पर चमगादड़ों की ग्वानों (मल -मुख्यता: यूरिक एसिड) के साथ मिला हुआ होता है, जिसे शुद्ध किया जाता है, ताकि इससे शुद्ध पोटेशियम नाइट्रेट निकाला जा सके और उसे गर्म करके क्रिस्टल्स के तौर पर रखा जा सके, पोटेशियम नाइट्रेट, अमोनियम नाइट्रेट, और यूरिया नाइट्रेट ये सभी विस्फोटक पदार्थ है, सभी में नाइट्रोजन तत्व विद्यमान है किसी न किसी रूप में, अमेरिकन सिविल वार के दौरान वहां लोगों ने एक देशी विधि का इस्तेमाल किया जिसे फ्रेंच मेथड भी कहते है, घरों से कुछ दूर  खाद (पांस), भूसा, और मूत्र मिलाकर कई महीनों के लिए छोड़ देते थे, बाद में राख और पानी से उसे छान कर अलग कर लेते थे….कुलमिलाकर यूरिया का किसी न किसी रूप में बारूद बनाने में इस्तेमाल किया जाता रहा, वही यूरिया जो जीवों की उपापचयी क्रियाओं द्वारा किडनी में अपशिष्ट पदार्थ के तौर पर निर्मित होती है साथ ही कुछ अन्य तत्व पोटेशियम, मैग्नीशियम आदि भी उत्सर्जित होते है जीवों के शरीर से, बताते चले की यह यूरिया एक ऐसा कार्बनिक योगिक है जो प्रयोगशाला में पहली बार बनाया गया बावजूद इस मिथक के की कोई भी कार्बनिक योगिक प्रयोगशाला में निर्मित नहीं हो सकता है, और इस यूरिया को बनाने वाले थे एक जर्मन वैज्ञानिक फ्रेडरिक वोह्लर……

दरअसल पोटेशियम नाइट्रेट, या यूरिया नाइट्रेट ये दोनों विस्फोटक गुणों से युक्त है और इन दोनों के देशी निर्माण की विधियों में यूरिया का प्राकृतिक स्रोत यानि मूत्र का इस्तेमाल होता रहा है, अकबर का बारूद (चारकोल, सल्फर और पोटेशियम नाइट्रेट) और हमारे गाँव के लोग जो यूरिया का इस्तेमाल करते है चीजों को ठंडा करने के लिए, दोनों में नाइट्रोजन तत्व व् वाष्पीकरण से तापमान में परिवर्तन की समानता है….पूरी दुनिया में 1585 के पहले कही भी रासायनिक प्रक्रियाओं से पानी को ठंडा कर पाने की कोइ विधि जानकारी में नहीं है, तो यह साबित हो जाता है की अबुल फ़जल के जहाँपना जलाल्लुद्दीन मुहम्मद अकबर ही इस ईजाद की हुई तकनीक के मालिक है. इसका जिक्र अशोक बाजपेई व् इरफ़ान हबीब ने भी अपने शोध में किया है.

तकनीक ने जब अपने पाँव फैलाए तो हासिए के आदमी तक वह पहुँची, उस तकनीक का लाभ भले वह आर्थिक कारणों से न उठा पा रहा हो किन्तु उसके मष्तिष्क में उस तकनीक का जादू जरूर पैबस्त हो गया, नतीजतन उसने अपने देशी तरीके ईजाद किए उस तकनीक की नक़ल में …जरूरत ईजाद कर लेती है वो तरीके जो आसानी से मुहैया हो सके इंसान को …और इसी जरूरत ने हमारे गाँव के लोगों को प्रेरित किया बिना किसी मशीनी रेफ्रीजरेटर के पानी, कोकोकोला और बेवरेज को ठंडा करने की तकनीक को ईजाद करने के लिए, वे अकबर की तरह शोरा यानि गन पाउडर का इस्तेमाल नहीं करते क्योंकि वह सर्व सुलभ नहीं, उन्होंने एक नया तरीका खोजा यूरिया से पानी ठंडा करने का, उन्हें उष्मा गतिकी के नियम भले न पता हो और न पता हो पदार्थों के वाष्पीकरण से तापमान में परिवर्तन की प्रक्रिया किन्तु उन्हें यह मालूम चल गया की यूरिया में पानी मिला देने से उसमे बंद बोतल में कोई भी चीज रख दे तो वह कुछ मिनटों में ही ठंडी हो जाती है बर्फ की तरह …जाहिर है ग्रामीण क्षेत्रों में हर किसान के घर यूरिया मौजूद होती है और गर्मियों में गाँव से दूर खेतों में काम करता आदमी जिसे प्यास में ठन्डे पानी की जरूरत भी और इसी जरूरत ने यह तरीका ईजाद करवा दिया !

अकबर की इस खोज में भले उनके किसी जंगी सिपाही की तकरीब हो यह, पर नाम जहाँपनाह का ही जोड़ा जाएगा उनके नवरत्न अबुल फ़जल द्वारा, या फिर यह ईजाद वाकई में जलालुद्दीन मुहम्मद अकबर का ही हो, क्योंकि उनकी बौद्धिक अमीरी का जलवा तो हिन्दुस्तान ही नहीं बल्ख बुखारा से लेकर लंदन तक था, और हमारे गाँव मैनहन के लोगों की यह तरकीब जो मैं आप सब को सुना रहा हूँ, हो सकता है कालान्तर में मेरे नाम से ज्यादा जोड़ दी जाए क्योंकि दस्तावेजीकरण करने वाले या करवाने वाला ही प्रमुख होता है, शुक्र है की मुग़ल शासन में अबुल फ़जल जैसे लेखकों ने अकबरनामा जैसा वृहद दस्तावेज तैयार किया और आज हम इस दस्तावेज के दरीचों से कई सदियों पहले की चीजों को देख सकते है.

DSCF3458कृष्ण कुमार मिश्र

संस्थापक संपादक- दुधवा लाइव जर्नल

मैनहन

खीरी

भारत

9451925997

Advertisements